उत्तराखंड में तीन दिवसीय “टिहरी झील महोत्सव”आज से होगा शुरू सात राज्यों की टीम लेगी भाग

 

 उत्तराखंड टिहरी गढ़वाल:

टिहरी झील महोत्सव आज से कोटी कॉलोनी में शुरू होगा, जिसकी शुरुआत मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सह रावत करेंगे। महोत्सव के आयोजन को लेकर सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। कार्यक्रम में देश-विदेश से लोग हिस्सा लेने पहुंचेंगे। रविवार को अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया जायेगा साहसिक खेलों को बढ़ावा देने और पर्यटकों को आकर्षित करने के उद्देश्य से आयोजित तीन दिवसीय टिहरी झील महोत्सव का रंगारंग आगाज हो गया. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि बतौर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शिरकत करते हुए महोत्सव का शुभारंभ किया. इस महोत्सव में सात राज्यों की टीमें हिस्सा ले रही हैं.

मुख्यमंत्री ने किया महोत्सव का रंगारंग  आगाज   

जिलाधिकारी सोनिका ने बताया कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत 25 फरवरी सुबह 10:45 बजे नई टिहरी में कोटी कॉलोनी स्थित टीएचडीसी हेलीपैड पहुंचेंगे, जिसके बाद महोत्सव की विधिवत शुरुआत की जाएगी। रविवार को प्रशासन और विभागीय टीम ने महोत्सव स्थल का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। बता दें कि टिहरी झील महोत्सव विभिन्न वाटर स्पो‌र्ट्स के लिए जाना जाता है। इसके अलावा यहां विभिन्न कलाकारों को भी आमंत्रित किया गया है। सोमवार से तीन तीन दिवसीय महोत्सव में देश के विभिन्न जगहों से संस्कृतिक टीमें प्रतिभाग करेंगी। महोत्सव में भजन गायन, लोकनृत्य, कथक नृत्य, म्यूजिकल बैंड प्रस्तुति, भरतनाट्यम, ओडिसी नृत्य, शहनाई वादन, योग ध्यान कार्यक्रम, फैशन शो आदि कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। योगाभ्यास में विभिन्न देशों के 160 से अधिक साधक हिस्सा लेंगे।

सात राज्यों की टीम हुई मौजूद

उत्तराखंड सहित सात राज्यों की सांस्कृतिक टीमों की झांकियों के साथ ही टिहरी झील महोत्सव का सोमवार को रंगारंग आगाज हो गया। जिला प्रशासन ने महोत्सव की सारी तैयारियां पूरी कर ली हैं।
मेले के लिए विशाल पांडाल सज चुका है, जबकि खानपान और खरीददारी, विभिन्न विभागों के स्टाल भी लग चुके हैं। वहीं जल साहसिक क्रीड़ाओं के लिए झील भी दुल्हन की तरह सजा दी गई है। सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत महोत्सव का आगाज किया।

टिहरी झील महोत्सव के शुभारंभ से पूर्व तैयारियों को लेकर डीएम सोनिका और सीडीओ आशीष भटगांई ने जरूरी जानकारी दी।  परमार्थ निकेतन के स्वामी चिदानंद सरस्वती के नेतृत्व में विदेशी डेलीगेट्स गंगा आरती, योगा, ध्यान कार्यक्रम के अलावा झील में निवेश के संबंध भी शासन-प्रशासन के प्रतिनिधियों से वार्ता करेंगे। बताया कि पदमश्री जागर गायिका बसंती बिष्ट शाम सात बजे जागर गाएंगी। उसके बाद प्रख्यात लोक गायक प्रीतम भरतवाण भी रात्रि नौ बजे अपने सांस्कृतिक प्रस्तुति देंगे। पहले उनका कार्यक्रम 26 फरवरी को होना था। इसके अलावा “गढ़वाली-जौनसारी व हिमाचली “गीतों की गायिका रेश्मा शाह भी उद्घाटन समारोह के बाद सांस्कृतिक प्रस्तुतियों से कार्यक्रम में छटा बिखेरेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *