उधम सिंह नगर में मिलीं लगभग 1500 सौ साल पुरानी रहस्यमयी मूर्तियां , पुरातत्व विभाग द्वारा चल रही है जांच

उत्तराखंड उधम सिंह नगर: 

उधमसिंघनगर में अवैध खनन करते समय मिली पुरानी रहस्यमयी मूर्तियां ,मूर्तियों की जांच के लिए पुरातत्व विभाग की टीम मौके पर पहुंची. जहां पुरातत्व विभाग की टीम को कुछ अवशेष भी मिले. मूर्तियों के मिले अवशेषों को गुप्तकालीन यानि 1500 वर्ष पुराना बताया जा रहा है. वहीं पुरातत्व विभाग की टीम मौके पर गहनता से जांच कर रही है.गौर हो कि मूर्तियां 23 फरवरी को अवैध खनन करते समय मिली थीं. 23 फरवरी को जनपद उधम सिंह नगर के गोबरा क्षेत्र की दाबका नदी में अवैध खनन के दौरान अचानक नदी के 25 फिट नीचे लगभग 9वीं सदी के मूर्तियों के अवशेष मिले. मूर्तियों की मिलने की खबर पूरे क्षेत्र में आग की तरह फैल गई. जिसके बाद जिला प्रशासन मौके पर पहुंचकर पुरातत्व विभाग को इसकी सूचना दी थी.

दिखे शिव भगवान् की मूर्तियाँ

जांच करते वक्त  पुरातत्व विभाग की टीम ने बताया कि अवशेषों को देखते हुए लग रहा है कि ये कोई शिव भगवान के मंदिर के अवशेष हैं और यहां एक मंदिर होगा. मौके पर विभाग को पुरानी ईंट के अवशेष मिले हैं. जिसको देख कर उन्होंने यह पुष्टि की यह अवशेष लगभग 1500 वर्ष पुराने हो सकते हैं. ये ईंट गुप्तकालीन में प्रयोग की जाती थी. साथ ही उन्होंने कहा कि ये अवशेष किसी मंदिर के होने की पुष्टि कर रहें हैं और इसकी जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी. बता दें कि दाबका नदी में लंबे समय से अवैध खनन हो रहा है.

25 फरवरी को अल्मोड़ा से पहुंची पुरातत्व विभाग टीम ने मूर्ति अवशेषों को नौवीं सदी का होने की बात कही थी। शनिवार को केंद्रीय पुरातत्व विभाग देहरादून के प्रतिनिधि डॉ. राजीव पांडे टीम के साथ पहुंचे।

मूर्तियों के अवशेष मिलने वाले स्थल पर मिली ईंट को देखते ही डॉ. पांडे ने कहा कि मूर्तियों और मंदिर के अवशेष गुप्त काल के हो सकते हैं। उस समय लोग नदी किनारे मंदिर बनाते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *