पुलिस महानिरीक्षक गढ़वाल परिक्षेत्र देहरादून द्वारा जनहित में जारी।

पुलिस महानिरीक्षक गढ़वाल परिक्षेत्र /S.I.T. (भूमि) प्रभारी श्री अजय रौतेला द्वारा जमीन संबंधी धोखा-धड़ी के बढ़ते हुए मामलो के मद्देनजर आम जन मानस की सुविधा हेतु जमीन खरीदने से पहले क्या सावधानियां बरतनी चाहिए इस संबंध में महत्व पूर्ण दिशा-निर्देश जारी किए गए।

जमीन खरीदने से पहले, कुछ जाँचने वाले महत्तवपूर्ण बिन्दु
1. फर्द –
जमीन खरीदने से पहले क्रेता को चाहिए कि वह उस जमीन से सम्बन्धित राजस्व विभाग अथवा नगर निगम से जमीन से सम्बन्धित जमीन की सत्यापित प्रति/कागजात को भलि-भाँति स्वंय अथवा सम्बन्धित जानकारी रखने वाले व्यक्ति से जाँच करायें। साथ ही यह भी जाँच ले कि भूमि बेचने वाले की व्यक्ति ही उक्त भूमि पर काबिज है अथवा उस व्यक्ति के नाम पर ही वह जमीन है कि नहीं। भूमि खरीदने से पहले बैंक में उक्त जमीन बंधक तो नही है ।

2. खसरा-सजरा –
भूमि से सम्बन्धित कागजात खसरा (जमीन/भू-भाग का नम्बर) जो कि राजस्व विभाग द्वारा आंवटित किया गया हो उसको भली-भाँति जाँच कर आस-पास स्थित भूमि के खसरा नम्बरों से मिलान कर लें। व राजस्व विभाग से उक्त सजरा( भू-भाग का नक्शा न0 सहित) से मिलान/जानकारी प्राप्त कर लें।

3. 12 साला –
12 साला, ये वो कागजात हैं जिनको नगर निगम से देखकर पता लगाया जा सकता है कि यह जमीन किसकी है व कितने साल से उक्त जमीन पर काबिज और किस-किस व्यक्ति के नाम वह जमीन उसके नाम पर चली आ रही है।

4. विक्रेता
जमीन खरीदने से पूर्व विक्रेता के बारे में आस-पड़ोस से अथवा पूर्व में कहाँ का निवासी है व उक्त जमीन का कब से मालिक व काबिज है के बारे में जानकारी ले ली जाये।

5. एजेंट/बिचौलिया/मध्यस्थ/डीलर
कृपया जमीन/मकान दिलवाने वाले एजेंट/बिचौलिया/मध्यस्थ के बारे में जानकारी कर लें की वह किस प्रकार का व्यक्ति है। यह भी भली-भाँति जानकारी हासिल कर लें की उस एजेंट द्वारा रेरा (रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डिवेलपमेंट एक्ट, 2016 RERA) में रजिस्ट्रेशन कराया गया है या नहीं।

6.कुर्रेबन्दी
कुर्रेबन्दी से तात्पर्य जो भूमि सयुंक्त खाते की हो उसको समस्त संयुक्त खातेदारो द्वारा विधिक रुप से राजस्व विभाग से बटबारा वाद के जरिए सब खातेदारो के अलग-अलग खाते तैयार करवाना।ताकि सम्बन्धित खातेदार अपने खाते की भूमि/सम्पत्ति को विक्रय करने के लिए स्वतंत्र हो।
संयुक्त खाते की सम्पत्ति को एक खातेदार से खरीदने से पूर्व समस्त खातेदारों की अनापत्ति प्रमाण पत्र(noc) अथवा उन्हे रजिस्ट्री का भाग बनाया जाना आवश्यक है। ताकि अन्य खातेदार भविष्य में क्रेता को चुनौती न दे पायें।

7. फोटो
जमीन खरीदते समय रजिस्ट्री में लगी फोटो की वास्तविकता का भौतिक सत्यापन कर लें। व जमीन की फोटो भी असली जगह में ही खिचवायें।

8. चौहदी
जमीन खरीदते समय विक्रय पत्र में दर्शित चौहदी (उत्तर,दक्षिण,पूरब,पश्चिम में स्थित सम्पत्ति) जरुर वर्णित करें तथा उक्त दिशाओं में कौन काबिज है तथा मौके पर जाकर भौतिक रुप से सत्यापित कर ली जाये ताकि भविष्य में किसी प्रकार की क्षति न होने पाये।

9 यदि जमीन किसी विशेष समुदाय(sc/st) की है तो DM की अनुमति आवश्यक है ।

10 भुगतान हमेशा चैक अथवा RTGS से जमीन के मूल मालिक के नाम पर ही करें।

11 जो भूमि खरीदनी है उसका भौतिक सत्यापन जरुर करा ले कि मौके पर दिखायी गयी भूमि तथा दस्तावेजों में वर्णित भूमि एक ही है।

12. भूमि खरीदने से पूर्व उक्त भूमि में जाकर अड़ोस-पड़ोस से जरुर बातचीत करें तथा जमीन व जमीन के मालिक के बारे में बात जरुर करें ।तथा कुछ समय जरुर व्यतीत करे ताकि अगर भूमि कोई वाद या विवाद की स्थिती है तो पता चल सके।

13 पॉवर ऑफ अटॉर्नी की स्थिती में मूल मालिक से बात जरुर करें।

14 एग्रीमेन्ट हमेशा रजिस्टर्ड ही करायें।

15 यदि उधार के बदले में जमीन का अनुबन्ध करते हैं कि यदि समय पर पैसा न दे पाये तो उक्त जमीन की रजिस्ट्री करेंगे। तो उक्त का विवरण अनुबन्ध में अवश्य अंकित करायें।
पुलिस महानिरीक्षक
गढ़वाल परिक्षेत्र
देहरादून द्वारा जनहित में जारी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *