बिलासपुर की जनता बोली- नेता सिर्फ चुनाव से पहले हाथ जोड़ते हैं, चुनाव बाद हम

छत्तीसगढ़ में पहले चरण के मतदान में 12 नवंबर को वोट डाले जाएंगे। अमर उजाला आपको बताएगा छत्तीसगढ़ के जमीनी हालात और उन विषयों के बारे में जो इस बार चुनावी मुद्दे हैं। इसी के मद्देनजर अमर उजाला का चुनाव रथ पहुंचा बिलासपुर। संवाददाता वैभव कुमार ने हर उम्र के लोगों से बात करके जनता का मूड जानने की कोशिश की।

उन्होंने जाना कि आखिर जनता क्या चाहती है? उनके चुने हुए नेता उनकी उम्मीदों पर कितने खरे उतरे हैं? साथ ही यह भी जाना की जनता इस बार के चुनाव में किसे मौका देने वाली है। अमर उजाला के लाइव वीडियो में जानिए कि बिलासपुर इस बार किन मुद्दों पर वोट करने वाला है।

बिलासपुर में महिलाओं ने कहा कि वे देखेंगी कि नेता जनता के बारे में सोचता है या नहीं। आलम यह है कि नेता सिर्फ चुनाव से पहले हाथ जोड़ते हैं और चुनाव के बाद तो जनता ही हाथ जोड़ती है पांच साल तक और कोई काम नहीं होता। साफ सफाई की व्यवस्था पर ध्यान देने की जरूरत है।

महिलाओं की सुरक्षा के सवाल पर महिलाओं ने कहा कि इस मुद्दे पर ध्यान दिया गया है लेकिन आनेवाले समय में और ध्यान दिए जाने की जरूरत है।

व्यापारियों का कहना है कि व्यापार के प्रति सरकार बिलकुल भी ध्यान नहीं देती है। आए दिन व्यापारियों को प्रताड़ित किया जाता है और टैक्स के ऊपर टैक्स लगाकर तंग किया जाता है। बिलासपुर में सेल्स टैक्स विभाग का कार्यालय स्नांतरित कर बहुत दूर कर दिया गया है। व्यापारियों की समस्याओं की कोई सुनवाई नहीं होती है। इसलिए व्यापारियों की मांग है कि इस कार्यालय को फिर से उसकी पुरानी जगह पर लाया जाए।

स्थानीय लोगों ने खराब सीवरेज व्यवस्था को भी चुनावी मुद्दा बताया। जनता का कहना है कि सीवरेज के लिए पहले चार इंच की पाइप लगाई गई जिसके फेल हो जाने पर 8 इंच फिर 12 इंच की पाइप डाली गई। वह भी फेल हो गई। उन्होंने कहा कि कम से कम 4 फीट की पाइप का सीवरेज के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए था।

एक जगह पर चार-चार बार गड्ढा खोदा गया। जिससे लोगों को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय लोगों ने कहा कि सरकार ने जनता को परेशान किया है। सीवरेज को इन्होंने फेल बताया और कहा कि फिर से नाली का इस्तेमाल होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *