श्री कैलाश चंद रमोला ग्राम बंगद्वारा, प्रताप नगर , उम्र 70 साल पूर्व अफसर SBI

कैलाश जी के पिता थे माल चन्द रमोला , जिन्होंने पहली गढ़वाली डिक्सनरी लिखी , तथा गढ़वाली बाजूबंद काव्य लिखा।
जिसमें था कैसे पशु जंगलो में चरने जाते हैं। घसियारी कैसे, घास काटती है।

पहले पटवारी की पावर , डीएम जैसे थीं। पटवारी की नेम प्लेट
बांज के पेड़ पर लगी रहती थीं।

प्रताप नगर ग्रीष्मकालीन राजधानी होती थी। कपड़ा गाड़ में घोड़े बदले जाते थे। कालीन कैसे रहा होगा, जिसे 10 हज़ार आदमियों ने ढोया।

साल का पहला इंटरव्यू , अपने महान FB मित्रों और उत्तराखंड दस्तक न्यूज पोर्टल के पाठकों के लिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *