सिलेंडर भरे ट्रक में अचानक लगी आग , बाल-बाल बचा ट्रक ड्राइवर

बुआखाल राष्ट्रीय राजमार्ग पर दुगड्डा-गुमखाल के मध्य भदाली गांव के पास से ।पाबौ गैस एजेंसी की ओर जा रहे सिलेंडरों से भरे ट्रक में अचानक आग लग गई । इस दौरान चालक और परिचालक ने भागकर अपनी जान बचाई करीब डेढ़ घंटे तक सिलेंडरों में धमाके होते रहे, जिससे पूरे क्षेत्र में दहशत बनी रही। दमकल कर्मियों ने जान हथेली पर रखकर किसी तरह आग पर काबू पाया। अग्निकांड की घटना के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग पर घंटों यातायात भी बाधित रहा।

 

तेज धमाकों से चढ़के मकानों के शीशे 

आग लगने से  सिलेंडर में हो रहे तेज धमाकों के कारण आसपास के गांवों में ग्रामीण अपने आवासों को छोड़ सुरक्षित स्थानों पर चले गए। तेज धमाकों के कारण कई मकानों में खिड़की के शीशे चटक गए।घटना करीब तीन बजे की है। बहादराबाद (हरिद्वार) स्थित इंडेन गैस प्लांट से सिलेंडर लेकर एक ट्रक पाबौ गैस एजेंसी के लिए रवाना हुआ। अपराह्न करीब तीन बजे जब ट्रक दुगड्डा से गुमखाल की ओर जा रहा था, उसी दौरान भदालीखाल से करीब तीन किलोमीटर पहले अचानक ट्रक का अगला टायर फट गया और टायर में आग लग गई। ट्रक चालक व परिचालक ने आग बुझाने का प्रयास किया, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ और आग की लपटों ने इंजन व चालक केबिन को चपेट में ले लिया। चालक-परिचालक मौके से भाग गए। इधर, आग की लपटें सिलेंडरों तक पहुंच गई व तेज धमाकों के साथ सिलेंडर फटने लगे, जिससे आसपास के क्षेत्रों में दहशत फैल गई। सिलेंडरों के परखच्चे आसमान में उड़ते नजर आए।

करीब 288 सिलेंडर के धमाके 

सूचना मिलते ही कोटद्वार से दो दमकल वाहन मौके के लिए रवाना हो गए। साथ ही कोटद्वार व लैंसडौन कोतवाली की पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। शुरू में आग की तेज लपटों व सिलेंडरों में हो रहे धमाकों के कारण दमकल कर्मी भी मौके पर जाने की हिम्मत नहीं जुटा पाए। बाद में किसी तरह दमकल कर्मियों ने हवा में उड़ते सिलेंडरों के टुकड़ों से बचते हुए आग बुझाने के प्रयास शुरू कर दिए। करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया। हालांकि, तब तक ट्रक पूरी तरह राख हो चुका था। ट्रक स्वामी सुनील कुमार ने बताया कि ट्रक में 288 सिलेंडर लदे हुए थे। बताया कि घटना की सूचना मिलते ही इंडेन के अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए हैं। बताया कि आग लगने के कारणों की जांच की जा रही है। दुगड्डा में ग्रामीण अपने घरों में आराम कर रहे थे। तभी तेज धमाका हुआ, और ग्रामीण दहशत में आ गए। इससे पहले कि ग्रामीणों को कुछ समझ आता, एक के बाद एक, धमाके होने लगे और तेज धमाकों के साथ ही लोहे के टुकड़े घर की छतों पर गिरने लगे। दशहतजदा ग्रामीण अपने घरों की छोड़ सुरक्षित स्थानों की ओर दौड़ लगाने लगे।

लोगों ने किया बम  का  अहसास 

बतया गया की  भदाली के समीप सिलेंडरों से भरे ट्रक पर आग लगने की भनक ग्रामीणों को नहीं थी, लेकिन जैसे ही सिलेंडर फटने शुरू हुए, ग्रामीण घबरा गए और डर के मारे घर छोड़ गांव से कुछ दूर एक जूनियर हाईस्कूल के बरामदे में एकत्र हो गए।लोगों ने सोचा बम फैट रहे है। इसके अलावा  प्रत्यक्षदर्शी सूरज कुमार ने बताया कि वह घर में पढ़ाई कर रहा था। तभी तेज धमाका हुआ और उसके कमरे की खिड़की का शीशा चटक गया। उसे कुछ समझ आता, इसी दौरान एक के बाद एक धमाके होने लगे व पूरा मकान हिलने लगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *