अवैध शराब पीने से उत्तराखंड में अब तक 25 से ज्यादा लोगों को मौत,

 

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने कहा अवैध रूप से शराब बेचने वालों के खिलाफ ठीक वैसा ही कानून बनाया जाएगा जैसा बलात्कार करने वालों के खिलाफ है.

उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब पीकर मरने वालों का आंकड़ा 90 के पार पहुंच गया है. यूपी के सहारनपुर में 38, मेरठ में 18,कुशीनगर में 8 लोगों की इस वजह से मौत हुई है. वहीं उत्तराखंड के हरिद्वार और रुड़की में जहरीली शराब अब तक लगभग 25 से ज्यादा लोगों को मौत की नींद सुला चुका है.

विधानसभा में शुरू हुए बजट सत्र को लेकर जितनी सुरक्षा जिला प्रशासन ने विधानसभा के बाहर की हुई है उतनी ही सुरक्षा विपक्ष के हमलों से बचने के लिए सरकार सदन के अंदर करती दिखाई दे रही है. यही कारण है कि सदन शुरू होने से पहले ही मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जहरीली शराब मामले में बड़ी कार्रवाई के साथ-साथ राज्य में एक अलग कानून बनाने की भी वकालत कर दी है.

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा है कि जहरीली शराब मामले का खुलासा हो चुका है, एसआईटी और मजिस्ट्रेट जांच के बाद IG रेंज के अधिकारी के नेतृत्व में एक और विस्तृत जांच के लिए आयोग बनाया जाएगा, ताकि इस मामले के हर पहलू की जांच हो सके.

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि यह जो भी घटना हुई है बेहद गंभीर है और उनके आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि मौजूदा सदन में सरकार एक ऐसा विधेयक लाने जा रही है जिसके पास होने से राज्य में जहरीली और अवैध रूप से शराब बेचने वालों और बनाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो सकेगी.

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि राज्य सरकार ऐसे मामलों में ठीक वैसा ही कानून बनाने जा रही है जैसे नाबालिग के साथ बलात्कार के बाद एक दोषी को सजा दी जाती है. उन्होंने कहा कि सब कुछ सही समय पर हुआ तो राज्य में अवैध रूप से शराब और जहरीली शराब बेचने वालों के खिलाफ बड़ा कानून बन सकता है.

हीं समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक जहरीली शराब कांड के मुख्य आरोपी सरदार हरदेव और उसके बेटे सु्क्का को हरिद्वार पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. इनकी गिरफ्तारी झाबरेरा से हुई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *