श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय में स्नातक स्तर पर पास होने के लिए 40 फीसदी अंक जरूरी

विवि ने शैक्षिक गुणवत्ता को सुधारने के लिए यह कदम उठाया है। श्री देव सुमन विश्वविद्यालय में स्नातक स्तर पर पास होने के लिए 40 फीसदी अंक जरूरी होंगे। यह व्यवस्था इसी सत्र से श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय से संबद्ध राज्य के 165 कॉलेजों में लागू होगी। जबकि, पीजी पाठ्यक्रमों जैसे एमए, एमएससी और एमकॉम में अभी तक परीक्षा पास करने को 40 फीसदी अंक लाने होते थे। लेकिन, नए सत्र में इसे बढ़ाकर 45 फीसदी कर दिया गया है।  अब तक 33 फीसदी अंक पर पास कर दिया जाता था। साथ ही स्नातकोत्तर (पीजी) स्तर पर उत्तीर्ण होने के लिए 40 की जगह 45 फीसदी अंक लाने जरूरी होंगे। श्रीदेव सुमन विवि के नियमित यूजी पाठ्यक्रम-बीए, बीएससी और बीकॉम में छात्र-छात्राओं को पास होने के लिए 33 फीसदी अंक लाने होते थे, लेकिन अब इसे बढ़ाकर 40 फीसदी कर दिया गया है। शुक्रवार को विवि की परीक्षा कमेटी की बैठक में यह निर्णय ले लिया गया। कुलपति डॉ. यूएस रावत ने बताया कि व्यावसायिक पाठ्यक्रम के लिए न्यूनतम उत्तीर्ण अंक में कोई बदलाव नहीं किया गया है। इसके लिए 48 फीसदी अंक पहले से ही जरूरी हैं। श्रीदेव सुमन विवि की परीक्षा परिषद ने सेमेस्टर परीक्षाओं के समय को लेकर भी बदलाव किया है। सेमेस्टर परीक्षा पहले तीन घंटे की होती थी, जिसे घटाकर अब ढाई घंटे कर दिया गया है।

199 दिन होगी पढ़ाई
शैक्षणिक कैलेंडर में 199 दिन शिक्षण कार्य के लिए तय किए गए हैं। साल में कुल 237 दिन विवि में काम होगा। लीप ईयर होने से इस बार सत्र में कुल 366 दिन हैं, जिसमें विवि में 129 दिन अवकाश रहेगा। सभी कॉलेजों को विषम सेमेस्टर की पढ़ाई 14 नवंबर तक पूरी करानी होगी। जबकि, सम सेमेस्टर की पढ़ाई अगले साल पांच मई तक पूरी करानी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *