70 साल की बुजुर्ग महिला ने अपनी पेंशन से स्कूल में बनाये क्लासरूम, ऐसे महान औरत के जस्बे को सलाम

 

वास्तव में आज कुछ लोग हैं जिनके अंदर इंसानियत कूट -कूट कर भरी है जो इस दुनिया में अभी भी मानवता के प्रतीक है वैसे ही उत्तराखंड की एक 70  साल बुजुर्ग औरत ने आपने गावं के  निजी संसाधनों से शिक्षा के क्षेत्र में सहयोग कर सरकारों के सब पढ़े, सब बढ़े के नारों को साकार कर रहे हैं। ऐसी ही अनोखी मिसाल पेश की है लगभग 70 वर्षीय बुजुर्ग महिला कुंती देवी ने जिन्होंने अपनी पेंशन से चमोली जिले के थराली विकास खंड के राजकीय इंटर कॉलेज लोल्टी में लगभग ढाई लाख का एक क्लासरूम बनवाकर विद्यालय को भेंट किया है। जिसका गुरुवार को एक समारोह में लोकार्पण किया गया।थराली विकासखंड के बज्वाड़ गांव की कुंती देवी एक सैनिक विधवा है। विवाह के महज छह माह बाद ही उनके पति व पूर्व सैनिक कमलापति जोशी का निधन 1971 में हो गया था। तब कुंती देवी महज 17 साल की थी।

कुंती देवी सेना से मिलने वाली पारिवारिक पेंशन से  अपना घर खर्चा चलाती हैं। उनकी अपनी कोई संतान भी नहीं है। घर खर्चे के बाद जो पैसा बचता है उसे कुंती देवी सामाजिक कार्यो में खर्च कर देती हैं। कुंती देवी अपनी पेंशन से अभी तक अपने गांव में तीन मंदिर बनवा चुकी हैं। अपने गांव में एक पंचायती घर और प्रतीक्षालय तक बनवा चुकी हैं। राजकीय इंटर कॉलेज लोल्टी में छात्र संख्या लगभग 350 है।शिक्षण कक्षों का अभाव है इसलिए कुंती देवी ने अपनी स्वयं की पेंशन से छात्रों को पढ़ने में कोई व्यवधान न हो लगभग ढाई लाख की लागत का एक क्लासरूम तैयार करवा कर विद्यालय को भेंट किया।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि उनकी कोई संतान न होने का उन्हें कोई गम नहीं है, वे सभी को अपने परिवार का हिस्सा मानती हैं। सामाजिक कार्यकर्ता जगदीश जोशी ने कहा कि कुंती देवी ने शिक्षण कक्षों की कमी से जूझ रहे राजकीय इंटर कॉलेज लोल्टी में एक कक्ष का निर्माण करवाकर अनूठी मिसाल कायम की है। विद्यालय के प्रधानाचार्य डीएस रावत ने कुंती देवी का आभार प्रकट करते हुए कहा कि इससे छात्रों को पढ़ने में सुविधा मिलेगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *