उत्तराखंड में आफत की बारिश, खतरे के निशान से ऊपर पहुंची अलकनंदा और मंदाकिनी

देवभूमि उत्तराखंड में शुक्रवार को बारिश से अचानक नदियों का जलस्तर बढ़ गया। मैदान से लेकर पहाड़ तक नदियां उफान पर आ गयी हैं। ऋषिकेश और हरिद्वार में गंगा का जलस्तर देर रात अचानक बढ़ने से लोग दहशत में आ गए। वहीं चमोली, रुद्रप्रयाग और श्रीनगर में भी अलकनंदा और मंदाकिनी नदी खतरे के निशान से ऊपर पहुच गई। उधर, कुमाऊं में धौली और काली नदी के जलस्तर में और अधिक वृद्धि हो गई है। योगनगरी ऋषिकेश में शुक्रवार रात करीब आठ बजे गंगा का जलस्तर अचानक बढ़कर खतरे के निशान के पास पहुचं गया। आनन-फानन प्रशासन ने गंगा के आसपास के इलाकों में अलर्ट जारी कर दिया है।

वही बात अगर रुद्रप्रयाग जिले की करें तो जिला मुख्यालय में अलकनंदा और मंदाकिनी नदी खतरे के निशान को पार कर गई हैं। लगातार हो रही बारिश को देखते हुए जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। अलकनंदा नदी 627 और मंदाकिनी नदी 626 मीटर पर बह रही हैं, जो मूल बहाव से दो मीटर ऊपर है। शुक्रवार सुबह से जिले में बारिश हो रही है। सात बजे सुबह ही नदियों ने खतरे के निशान को पार कर लिया था। जबकि साढ़े आठ बजे के नदियां खतरे के निशान से भी यह दो मीटर ऊपर से बह रही है। प्रशासन द्वारा नदी किनारे बसे लोगों को सुरक्षा की दृष्टि से सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए कहा गया है। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी एनएस रजवार ने बताया कि स्थिति पर नजर जा रखी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *