अटल आयुष्मान योजना में बड़ा घोटाला

उत्तराखंड में अटल आयुष्मान योजना से  जुडे कई घोटाले सामने आए है। सरकारी अस्पतालों में राष्ट्रीय अंधता निवारण कार्यक्रम के तहत मोतियाबिंद से ग्रसित लोगों के निश्शुल्क ऑपरेशन की सुविधा है। लाभार्थी तेज़ी से निजी अस्पतालों में ऑपरेशन करा रहे हैं। योजना के तहत सरकारी अस्पतालों में केवल 189 सर्जरी की गई, जबकि निजी अस्पतालों का आंकड़ा 25052 तक पहुंच गया है।

सरकार की तरफ से इसका एक करोड़ 87 लाख से अधिक का क्लेम दिया गया है। इसके बाद अब निजी अस्पतालों में मोतियाबिंद के ऑपरेशन बंद कर दिए गए हैं। ये ऑपरेशन अब सिर्फ सरकारी अस्पतालों में ही किए जाएंगे। अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना के मुख्य कार्यकारी अधिकारी युगल किशोर पंत ने इस बावत निर्देश जारी कर दिए हैं।

इसमें किसी भी तरह की आपात स्थिति उत्पन्न नहीं होती है। मरीज निजी अस्पतालों के लिए रेफर नहीं किए जाएंगे। बताया गया कि निजी अस्पतालों में मोतियाबिंद के ऑपरेशन के लिए जो पैकेज निर्धारित किए गए थे, उन्हें राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा ब्लॉक किया जा रहा है। बता दें, मोतियाबिंद के ऑपरेशन के लिए निजी अस्पतालों को पांच हजार से लेकर साढ़े दस हजार का पैकेज आयुष्मान योजना के तहत निर्धारित किया गया था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *