मुख्यमंत्री घस्यारी योजना महिलाओं के लिए वरदान साबित होगी : डॉ. धन सिंह रावत

सहकारिता मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने कहा कि,हमारे किसान जो धान और गेहूं पैदा करते हैं उन्हें घास प्रजाति की मक्का, जई व बरसीन बोने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा ऐसे में अनाज से ज्यादा पैसा वह इन फसलों से ले सकते हैं. फेयर प्राइस शॉप के माध्यम से जिलों में घास को पहुंचाया जाएगा. एक ओर जहां घास बोने से तो पैकिंग से भी इनकम होगी. इस योजना के लिए पहली बार मुख्यमंत्री की महत्वकांक्षी स्वास्थ्य पशुधन गौरवान्वित महिलाएं एवं राज्य के पशुपालकों को पोषण प्रणाली में हो रहे प्रौद्योगिक विकास से जोड़ते हुए कल्याणकारी योजना *मुख्यमंत्री घस्यारी कल्याण योजना * का मील का पत्थर साबित होने जा रही है।

मंत्री डॉ रावत ने कहा कि, इस योजना से निकट के दिनों में पहाड़ की महिलाओं का घास का बोझ लगभग समाप्त हो जायेगा। उत्तराखण्ड सरकार ने साढ़े चार साल में महिलाओं की प्रगति के लिए अनेक कार्य किये हैं।

उन्होंने कहा कि, पीढ़ियों से पहाड़ पर महिलाएं हर घर की रीढ़ होती हैं। वह सुबह से शाम तक घास के बोझ से दबी रहती हैं उन्हें मीलों पहाड़ियों पर घास लेने जाना पड़ता है यह जोखिम भरा काम भी होता है।उत्तराखंड सहकारिता विभाग ने इस बोझ को समाप्त करने के लिए अनेक कल्याणकारी कदम उठाए हैं। तथा महिलाओं के इस कठिन काम को समाप्त करने के लिए ठोस नीतियां बनाई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *