मशरूम गर्ल दिव्या रावत देश.दुनिया में प्रसिद्ध, पढ़िये उनके संघर्ष की कहानी

दून की मशरूम गर्ल दिव्या रावत की कामयाबी मशरूम उत्पादन के बाद लैब में कीड़ा जड़ी तैयार करने वाली की प्रशंसा देश- दुनिया में हो रही है। दिव्या सैकड़ों लोगों को रोजगार दे रही है और एक साल में करोड़ो रूपये का टर्नओवर भी कमा रही है।

ट्रेनिंग टू ट्रेडिंग कॉन्सेप्ट पर दिव्या उत्तराखंड की आर्थिकी सुधारने के साथ यहां के युवाओं और महिलाओं को रोजगार से जोड़ने का सपना भी देख रही है। वर्ष 2011-12 में दिल्ली में 25 हजार की नौकरी छोड़कर दिव्या ने अपने पैतृक गांव में कुछ नया करने की ठानी और आज वह उस मुकाम को हासिल भी कर चुकी है। अपने नए सफर की शुरुआत दिव्या ने वर्ष 2013 में देहरादून के मोथरोवाला में एक कमरे में सौ बैग मशरूम उगाकर की। उत्तराखंड के साथ ही उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश में उसे बुलाया जाने लगा। आज वह इन राज्यों में हजारों लोगों को मशरूम उत्पादन उत्पादन की ट्रेनिंग दे रही है। साथ ही उत्पादित मशरूम को भी खरीदती है।

दिव्या की कंपनी फूड प्राइवेट लिमिटेड के तैयार किए मशरूम प्रोडक्ट देश ही नहीं, विदेश तक में बिक रहे हैं। इस सफलता के बाद दिव्या ने उच्च हिमालयी क्षेत्र में मिलने वाली दुर्लभ कीड़ा जड़ी पर भी काम करना शुरू किया। इसके लिए मोथरोवाला में एक करोड़ से ज्यादा लागत की लैब तैयार की गई।

दिव्या ने यूं तो मशरूम के कई उत्पादन दून में लांच किए। मगर, कीड़ा जड़ी की चाय उसकी कंपनी का प्रमुख ब्रांड है। आज कई रेस्टोरेंट में कीड़ा जड़ी की चाय बिक रही है। कीमती कीड़ा जड़ी की चीन, जापान, अमेरिका आदि देशों में भी खासी डिमांड है।

राष्ट्रपति ने किया सम्मानित 

मशरूम के क्षेत्र में दिव्या का काम देख उत्तराखंड सरकार ने उसे अपना ब्रांड एंबेसडर बनाया है। वर्ष 2017 में महिला दिवस पर उसे तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी सम्मानित कर चुके हैं।

कीड़ा जड़ी की वेबसाइट 

दिव्या रावत के मशरूम और कीड़ा जड़ी के उत्पाद ऑनलाइन बिक रहे हैं। इसके लिए कीड़ाजड़ी नाम से वेबसाइट बनाई गई है। इसमें दिव्या हेल्दी मशरूम मसाला, अचार, पापड़, कीड़ा जड़ी चाय, कैप्सूल आदि उत्पादों को बेच रही है। जल्द दिव्या ऑनलाइन प्रोडक्ट बेचने वाली कंपनियों के साथ भी करार करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *