कण्डीसौड़ में 30 बेड कोविड अस्पताल खोलने की मांग पकड़ रही है जोर।  

कण्डीसौड़ थौलधार ब्लॉक में कोरोनावायरस से एक के बाद एक मौत होने से लोग दहशत में हैं। आज छाम कण्डीसौड़ गांव के दयाल सिंह राणा (55) अस्पताल ले जाते कोविड-19 से मौत हो गई। स्थानीय लोगों और जनप्रतिनिधियों कोरोना टेस्टिंग की मांग उठाई है साथ ही कण्डीसौड़ में सीएससी ट्रामा सेंटर में 30 बेड का कोविड-19 का अस्पताल खोलने की भी मांग की है। 

कण्डीसौड़ गांव के  दयाल सिंह राणा की आज कोविड-19 के कारण मौत हो गई। उन्हें कुछ दिन से बुखार था। इससे पहले पिछले एक माह में थौलधार ब्लॉक की पट्टी नगुण और पट्टी गुसाईं में  गजेंद्र सिंह नौगांव, भूरिया लाल कंडार गांव, सरिता देवी बयाड़गांव,  महावीर राणा तिखोंनगांव देवेंद्र भट्ट कस्थल गांव की कोविड-19 मौत हुई है।ब्लॉक के बयाड़गांव, जामनी गांव ,इडियान गांव को प्रशासन ने कैंटोनमेंट जोन बना दिया है। लेकिन जनप्रतिनिधियों ने व्यापक स्तर पर रैपिड एंटीजन टेस्ट(RAT) या आरटी -पीसीआर रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पॉलीमर चैन रिएक्शन टेस्ट की जिला प्रशासन से की है। 

दो पट्टियों में कोविड – 19 से छह मौतों के बाद आज रविवार को पूर्व ब्लॉक प्रमुख श्री जोत सिंह बिष्ट ने जिलाधिकारी को भेजे पत्र में कहा है कि, थौलधार के गांव में बुखार की हालत चिंताजनक है।उन्होंनेकोरोना टेस्ट की पहचान करने की मांग के साथ ही सीएससी कंडीसौड़ ट्रॉमा सेंटर में 30 बेडेड का कोविड अस्पताल तुरंत खोलने की बात कही है। ज्ञापन में जौनपुर ब्लॉक मुख्यालय थत्त्यूड़ अस्पताल में भी 30 बेडेड अस्पताल खोलने की मांग की गई है साथ ही दोनों अस्पतालों में ऑक्सीजन की समुचित व्यवस्था करने की मांग की है। श्री बिष्ट ने कहा कण्डीसौड़ अस्पताल में जो भी डॉक्टर अन्यंत्र ड्यूटी पर चले गए थे उन्हें तुरंत अस्पताल में इस संवेदनशील टाइम पर वापस बुलाया जाना चाहिए। कण्डीसौड़ तहसील में प्रभारी नायाब तहसीलदार  गंगा पेटवाल ने बताया कि कण्डीसौड़ बाजार में कल थर्मल टेस्टिंग की जाएगी। बाजार शुक्रवार से बंद है उससे पहले 12:00 बजे तक खुलता था।

उन्होंने बताया कि, कमांद में एक दुकान खुली पाई गई थी, उसका चालान किया गया। उन्होंने कहा शक्ति से कोविड-19 के मरीजों की पहचान की जाएगी। जो भी संक्रमित लोग या उनसे संपर्क में आए लोग खुलेआम घूमेंगे उन पर कार्रवाई की जाएगी। नायब तहसीलदार ने बताया कि, कोविड-19 महामारी के बारे में लाउडस्पीकर के माध्यम से जन जागरूकता की जा रही है। जनप्रतिनिधियों ने होमगार्ड की तैनाती तहसील में बढ़ाने की मांग की है।जो होमगार्ड यहां है वह कंटेनमेंट जोन के गांव में तैनात हैं उनके तहसील मुख्यालय में ना होने के कारण तमाम तरह की दिक्कतें पेश आ रही हैं। 

दरअसल कण्डीसौड़ तहसील के अंतर्गत आने वाले गांव में ज्यादातर लोग इस बुखार को छुपा रहे हैं। लोग घरों में ही अपने बुखार का इलाज कर रहे हैं उन्हें टेस्ट कर इसका वैज्ञानिक ढंग से इलाज करना होगा। तभी यह संक्रमण फैलने से बचेगा। गांवों में बुखार फैलने, संक्रमण बढ़ने और एक के बाद एक मौत की खबरों से पूरा ब्लॉक दहशत में हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *