वर्कशाप में खड़ी तीन रोडवेज बसों में लगी आग, लाखों का नुकसान

 

काशीपुर। परिवहन निगम की वर्कशाप में खड़ी तीन बसों में आग लग गई। अभी तक आग लगने की वजह पता नहीं चली है। मामले की जानकारी होने पर उच्चाधिकारियों ने अपने स्तर से संशोधन किया है। आग से करीब 25 से 30 लाख रुपये नुकसान का होने की आशंका है।

बस संख्या यूके 07 पीए1996, बस संख्या यूके 07पीए 1995 और बस नंबर यूके 07पीए 1355 अलग-अलग तकनीकी वजहों से रिपेयर के लिए वर्कशॉप में खड़ी थीं। सोमवार देर रात तीनों बसों में आग लग गई। गौर करने वाली बात यह है कि ड्यूटी पर तैनात चौकीदार को भी बसों में आग लगने की भनक नहीं लगी। सुबह वर्कशाप में तैनात मैकेनिक वीर सिंह आए तो उन्होंने बसों को जला हुआ देखा तो फोरमैन को जानकारी दी। सूचना पर काठगोदाम से एजीएम तकनीकी इंद्रासन, एसएम मुकुल कुमार पंत, डिपो के एआरएम अनिल कुमार सैनी ने घटनास्थल पर पहुंचकर जानकारी जुटाई। चौकीदार शरीफ खां ने बताया कि उनकी ड्यूटी रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक की थी। रात करीब 12:30 बजे जयपुर से आई बस संख्या यूके 07पीए 1997 वर्कशॉप के अंदर आई। इसके बाद वर्कशॉप का गेट बंद कर दिया गया। पंखे की आवाज में उन्हें बस में आग लगने का पता नहीं चला। इधर, वर्कशॉप में जिस टिनशेड के स्थान पर बसें खड़ी थी वहां सिगरेट की खाली डिब्बी और डिस्पोजेबल ग्लास मिले हैं। बताया जा रहा है कि तीनों बसों के इंजन, टायर सुरक्षित हैं। इससे शार्ट सर्किट की आशंका नहीं है।
नहीं हैं सीसीटीवी कैमरे
वर्कशॉप में एक भी सीसीटीवी कैमरा नहीं हैं। ऐसे में वर्कशॉप की सुरक्षा एक या दो सिक्योरिटी गार्ड के ऊपर ही है।
60 फीट दूरी पर है पेट्रोल पंप
काशीपुर। वर्कशाप के अंदर जहां पर बसें जली वहां से महज 60 फीट की दूरी पर डिपो का पेट्रोल पंप है। ऐसे में यदि बस में धमाका होता तो नजदीक में ही स्थित पेट्रोल पंप के आग की चपेट में आने से बड़ा हादसा हो सकता था। डिपो के बगल में रेलवे ट्रैक भी है।
बसों में था ढाई से तीन फुट का अंतर
काशीपुर। एक साथ तीन बसों में आग लगना अधिकारियों को समझ नहीं आ रहा है। जहां पर तीनों बसें जली वहां करीब 50 पुराने टायर भी रखे थे, लेकिन उनमें आग नहीं लगी। वहीं तीनों बसें करीब दो से तीन फुट की दूरी पर खड़ी थी। ऐसे में तीनों बसों का जलना अधिकारियों को समझ नहीं आ रहा है।
घटना की जानकारी सुबह मिली। सूचना मिलने के बाद मैंने घटनास्थल का निरीक्षण किया है। इस मामले में कर्मचारियों से जानकारी ली जा रही है। पूरे मामले में जो भी दोषी मिलेगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जांच रिपोर्ट तैयार कर मुख्यालय भेजी जा रही है।
-मुकुल कुमार पंत, एसएम, परिवहन निगम।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *