अगर अनुच्छेद 370 अस्थायी है तो जम्मू-कश्मीर का विलय भी अस्थायी है : फारूक अब्दुल्ला

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने सोमवार को कहा कि अगर धारा 370 अस्थायी है, तो भारत में हमारा विलय भी अस्थायी है। मीडियाकर्मियों से बात करते हुए उन्होंने कहा, ‘यदि अनुच्छेद 370 अस्थायी है, तो हमारा विलय भी अस्थायी है। जब महाराजा हरि सिंह ने ये विलय किया, तो यह अस्थायी था। उस समय कहा गया था कि जनमत संग्रह होगा और लोग तय करेंगे कि उन्हें भारत या पाकिस्तान किसके साथ जाना है। इसलिए, अगर ऐसा नहीं हुआ, तो वे अनुच्छेद 370 को कैसे हटा सकते हैं।’ लोकसभा में बोलते हुए अमित शाह ने कहा था कि अनुच्छेद 370 संविधान का अस्थाई प्रावधान है।

राज्य में राष्ट्रपति शासन के विस्तार के बारे में बात करते हुए अब्दुल्ला ने कहा, ‘उनके पास इसके अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं था। राष्ट्रपति पद का विस्तार अमरनाथ यात्रा के कारण आवश्यक था।’ उन्होंने दावा किया कि भारत का चुनाव आयोग (ECI) चुनाव कराने के लिए तैयार था लेकिन केंद्र सरकार ने इसे रोक दिया। उन्हें लोकसभा चुनाव के बाद और अमरनाथ यात्रा से पहले मतदान कराना चाहिए था क्योंकि सुरक्षा बल यहां थे। मुझे पता है कि चुनाव आयोग और अधिकारियों ने चुनाव कराने का फैसला किया था लेकिन केंद्र सरकार ने हस्तक्षेप किया और इसे रोक दिया।

घाटी में पर पक्ष के साथ बातचीत करने की आवश्यकता को दोहराते हुए अब्दुल्ला ने कहा, ‘सभी के साथ बातचीत होनी चाहिए। अगर हम वास्तव में इस मुद्दे को हल करना चाहते हैं जो काफी सालों से है, तो हमें सभी से बात करने की जरूरत है। वाजपेयी जी ने बातचीत की। आडवाणी जी ने बातचीत की। मुशर्रफ ने भी बातचीत की। सभी ने बातचीत की। इस मुद्दे को केवल बातचीत के जरिए हल किया जा सकता है, न कि युद्धों के जरिए।’

उन्होंने कहा कि जब बालाकोट हुआ था, तब सरकार ने क्या कहा था- वहां 300 लोग मारे गए थे। आज गृह मंत्री अमित शाह खुद कह रहे हैं कि कोई भी वहां नहीं मारा गया था। उन्होंने यह कहानी क्यों बुनी? केवल वोट मांगने के लिए? आज वे कैसे कह रहे हैं कि किसी की मौत नहीं हुई। उन्हें इसके लिए भारत के लोगों से माफी मांगनी चाहिए। इन लोगों ने झूठ बोला।

भाजपा पर पीडीपी के साथ हाथ मिलाकर राज्य को बर्बाद करने का आरोप लगाते हुए, पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा: “वे असली भूत हैं। उन्होंने पीडीपी के साथ हाथ मिलाकर पूरे राज्य को बर्बाद कर दिया। वे आज हमें क्यों निशाना बना रहे हैं? क्योंकि वे जानते हैं कि नेशनल कॉन्फ्रेंस जीतने जा रही है और वे नेकां को दूर नहीं रख सकते हैं। हमने उन्हें संसदीय चुनावों में यह दिखाया है। अगर कांग्रेस के भगोड़े उम्मीदवार चुनाव नहीं लड़ते तो हम लद्दाख लोकसभा सीट भी जीत लेते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *