बैसाख का महीना गेहूँ कटाई का होता है, इस बार पहाड़ को बुखार कूट रहा है 

पहाड़ पर कोरोना महामारी ने जबरदस्त ढंग से दस्तक दे दी है जिससे पहाड़वासी बेबस और चिंतित हैं। यह संक्रमण कहीं न कहीं से आया ही होगा। जिसे बुखार है वह टेस्ट करा रहा है तो कोरोना पॉजिटिव पाया जा रहा है। जिससे गांव में दहशत हो रही है। बैसाख का माह चल रहा है। वैसे इस साल गेहूं की अच्छी फसल न होने के कारण वैसे स्थानीय लोग निराश थे लेकिन अचानक बुखार फैलने, संक्रमण का अत्यधिक खतरा होने पर उनकी कमर जैसी टूटती हुई दिखाई दे रही है। 

उन्हें बुखार कूट रहा है। जहाँ फोन करो, वहाँ बुखार की खबरें हैं। वह बेबस हैं। ज्यादा बुखार आने पर हॉस्पिटल में भर्ती हो रहे हैं हॉस्पिटल से सीधे नरेंद्रनगर कोरोना अस्पताल में रेफर किया जा रहा है। सीएससी अस्पतालो या प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों ने रेफर करने की ख्याति पाई हुई है यही सबसे इन अस्पतालो की सबसे बड़ी उपलब्धियां है। तहसील और ब्लॉक मुख्यालय के कण्डीसौड़ सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों ने मुझे बताया कि यहां आकस्मिक रूप से छह या सात ऑक्सीजन के सिलेंडर रखे हुए हैं। तीन एम्बुलेंस हैं। तीन डॉक्टर हैं। एक छुट्टी गई हैं उनके भाई की रुड़की में तबियत खराब है। एक डॉक्टर कुम्भ में गए थे, वह लौटे नहीं। जो तीन हैं कोई 6 दिन पहले आया, कोई 15 दिन पहले। एमबीबीएस नए डॉक्टरो की संख्या अच्छी है, कोई कंप्लेंट नहीं।लेकिन वह लोग भी नब्ज़ ही देखते हैं। वह क्या करेंगे ? उनके पास मेडिकल उपकरण नहीं हैं। काफी लोग कोरोना को छुपा रहे हैं। वह घर में ही इस डर से हैं कि अस्पताल जाएंगे, तो मर जाएंगे। इस तरह के समाचार वह टीवी पर देखते हैं। और दहशत में रहते हैं। कमोबेश यही हाल पहाड़ के हर ब्लॉक के सरकारी अस्पताल व गांव का होगा। 

 

18 से 44 वर्ष तक के लोगों के टीके कल शहरो में ही लगते दिखाई दिये। गांव और ब्लॉक की तरफ इनकी पहुँच नहीं हो पाई है। आज मंगलवार 12 तक ब्लॉकों में वैक्सीन नहीं पहुँच पाई है। अकेले टिहरी गढ़वाल जिले के थौलधार ब्लॉक में कोरोना संक्रमित 203 लोग हो गए हैं। कुछ गांवों को प्रशासन ने कंटेनमेंटजोन बनाया है वहां आने जाने वाले लोगों पर पाबंदियां हैं लगाई हुई हैं। जब एक ब्लॉक की स्थिति यह है तो राज्य में 95 ब्लॉक हैं।

नगुण पट्टी के अंतर्गत:-

जामनी गाँव – 27, बयाड गांव – 52, भेटी गांव 1, कस्तल गांव 3,डोबन गाँव 2, लालूरी गाँव 9, उनियाल गांव 1, गैर गाँव 1,बन्स्युल गाँव 1, बगोन गांव 1, लोल्दी गाँव 1, भंगर गाँव 1

कुल 100 लोग

गुसाईं पट्टी के अंतर्गत:-

ढ़रोगी गाँव 4, कंडीसौड़ गाँव 12, जसपुर गांव 2, सुनार गांव 4, इडियान गांव 17, स्यांसु गाँव 6, साणो गांव 8, मैंडखाल गांव 1, कंस्यूड गांव 17, डांग गाँव 1, डंडी गांव 1,धरवाल गांव 4

कुल 75 लोग

उदयपुर पट्टी के अंतर्गत:-

थौलधार गांव 1, लेंगर्थ गांव 1, तिखोन गांव 2, कमांद गांव 2, उजियाड गांव 2, क्यूलागी गांव 1, भैंसकोटी गांव 2, 

कुल 11 लोग

जुवा पट्टी के अंतर्गत:-

राम गांव 6, ज्यूंदासु गांव 1, सेलुर गांव 1, गवाल गांव 1, तिवाड़ गांव 3, बौर गांव 1, सुनार गांव 2, जौलंगी गांव 2

कुल 17 लोग इसप्रकार अब तक थौलधार ब्लॉक में 203 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। तहसील प्रशासन अपने होम गार्डों के साथ काफी कुछ कर रहा है जो वह कर सकता है और अस्पतालों में डॉक्टर भी कम से कम गांव , न्याय पंचायत के बीच में तो है वह बुखार की पेरासिटामोल गोली देने के लिए तो है। रेफर का पर्चा बनाने के लिए तो उपलब्ध है। बस अब यही है कि जो लोग संक्रमित हैं वह लोग सरकार की दी हुई किट का अपने घरों में उपयोग करें और अपनी जांच कराएं लेकिन खुलेआम छुटटे ना घूमे यह उनकी स्वयं की जिम्मेदारी है। 

 

शीशपाल गुसाईं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *