मुकुल रॉय : बंगाल में TMC, कांग्रेस और CPM के 107 विधायक बीजेपी में होंगे शामिल

लोकसभा चुनाव के दौरान पश्चिम बंगाल में मिली शानदार सफलता के बाद भाजपा राज्य में अपने संगठन को और मजबूत करने में जुट गई है। बंगाल में विपक्षी दलों के कई नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं जिनमें टीएमसी के विधायक से से लेकर पार्षद तक शामिल हैं। राज्य में 2021 में विधानसभा चुनाव होनें हैं ऐसे में बीजेपी ने अपनी तैयारियां अभी से शुरू कर दी हैं। जिस तरह से लोकसभा के नतीजे आए हैं उससे साफ है कि विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य में मुख्य मुकाबला भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच होगा।

इस बीच भाजपा नेता मुकुल रॉय ने एक बड़ा बयान दिया है। कोलकाता में मीडिया से बात करते हुए मुकुल रॉय ने कहा, ‘पश्चिम बंगाल में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम), कांग्रेस और सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के 107 विधायक भाजपा में शामिल होंगे। हमारे पास सभी की सूची है और ये सभी हमारे संपर्क में हैं।’ मुकुल रॉय एक समय में टीएमसी के कद्दावर नेता थे और उनकी गिनती ममता बनर्जी के करीबियों में होती थी लेकिन बाद में उन्होंने भाजपा का दामन थाम लिया। लोकसभा चुनाव के दौरान भी मुकुल रॉय ने पार्टी के अभियान की कमान संभाली थी।

टीएमसी के कई नेता थाम चुके हैं बीजेपी का दामन
लोकसभा चुनाव से पहले और परिणाम घोषित होने के बाद राज्य में टीएमसी के कई नेता पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए हैं जिनमें पार्षद से लेकर विधायक तक शामिल हैं। कुछ समय पहले ही बंगाल भाजपा प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था कि टीएमसी के 40 से ज्यादा विधायक जल्द ही बीजेपी में शामिल होंगे।

लोकसभा चुनाव में मिली थी बीजेपी को शानदार जीत

लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने राज्य में शानदार प्रर्दशन किया था। राज्य की 42 लोकसभा सीटों में से भाजपा ने 18 सीटों पर  जीत दर्ज की थी जबकि 2014 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा को महज 2 सीटें मिली थी। वहीं इस चुनाव में सत्ताधारी टीएमसी को 22 सीटों से संतोष करना पड़ा। वहीं वोट प्रतिशत की बात करें तो भाजपा और टीएमसी में महज 3 फीसदी का अंतर है। इस लोकसभा चुनाव में भाजपा को जहां 40.3 फीसदी वोट मिले थे वहीं तृणमूल कांग्रेस को 43.3 फीसदी वोट मिले थे।

2021 में होने हैं विधानसभा चुनाव
पश्चिम बंगाल में 20121 में विधानसभा चुनाव होने हैं और इससे पहले नेताओं का पाला बदलने का दौर जारी है। हाल ही में दो नगरपालिकाओं में टीएमसी के अधिकतर पार्षदों द्वारा भाजपा का दामन थामने की वजह से उन पर (नगर पालिका) पहली बार बीजेपी ने कब्जा कर लिया था।  राज्य में कुल 294 विधासभा सीटें हैं। 2016 में जब विधानसभा चुनाव हुए थे तो उस समय सत्ताधारी ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस को को शानदार जीत मिली थी। तब कांग्रेस को 44, सीपीआई को 1 सीपीआईएम को 26 तथा बीजेपी को महज 3 सीटें मिली थी। वहीं टीएमसी को 211 सीटें मिली थीं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *