प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एम्स में एक हजार लीटर क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट का किया उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एम्स ऋषिकेश में पीएम केयर्स के तहत स्थापित प्लांट देश को समर्पित किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज से नवरात्र का पावन पर्व भी शुरु हो रहा है आज प्रथम दिन मां शैलपुत्री की पूजा होती है. मां शैलपुत्री, हिमालय पुत्री हैं और आज के दिन मेरा यहां होना, यहां आकर इस मिट्टी को प्रणाम करना इससे बड़ा जीवन में कौन सा धन्य भाव हो सकता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि 20 साल पहले आज के ही दिन मुझे जनता की सेवा का नया दायित्व मिला था. लोगों के बीच रहकर, लोगों की सेवा करने की मेरी यात्रा तो कई दशक पहले से चल रही थी, लेकिन आज से 20 वर्ष पूर्व, गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में मुझे नई जिम्मेदारी मिली थी।

देश के दूर-दराज वाले इलाकों में नए वेंटिलेटर्स की सुविधाएं, मेड इन इंडिया कोरोना वैक्सीन का तेज़ी से में निर्माण, दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे तेज़ टीकाकरण अभियान, भारत ने जो कर दिखाया है, वो हमारी संकल्पशक्ति, हमारे सेवाभाव, हमारी एकजुटता का प्रतीक है।

छोटे-छोटे उपचार संबंधि मुश्किलों को दूर करने के लिए अब ई-संजीवनी ऐप की सुविधा दी गयी है. इससे गांव में अपने घर पर बैठकर, मरीज शहर के अस्पतालों के डॉक्टर से परामर्श ले रहे हैं।

उन्होंने कहा कि 2019 में जल जीवन मिशन शुरू होने से पहले उत्तराखंड के सिर्फ 1 लाख 30 हजार घरों में ही नल से जल पहुंचता था।आज उत्तराखंड के 7 लाख 10 हजार से ज्यादा घरों में नल से जल पहुंचने लगा है। यानि सिर्फ 2 वर्ष के भीतर राज्य के करीब-करीब 6 लाख घरों को पानी का कनेक्शन मिला है।

हमारी सरकार, हर फौजी, हर पूर्व फौजी के हितों को लेकर भी पूरी गंभीरता से काम कर रही है. ये हमारी ही सरकार है जिसने ‘वन रैंक वन पेंशन’ को लागू करके अपने फौजी भाइयों की 40 साल पुरानी मांग पूरी की।

कोरोना से लड़ाई के लिए इतने कम समय में भारत ने जो सुविधाएं तैयार कीं, वो हमारे देश के सामर्थ्य को दिखाता है, अटल जी मानते थे कनेक्टिविटी का सीधा कनेक्शन विकास से है। उन्हीं की प्रेरणा से आज देश में कनेक्टिविटी के इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए अभूतपूर्व स्पीड और स्केल पर काम हो रहा है। केदारधाम की भव्यता को और बढ़ाया जा रहा है।

स्वास्थ्य सुविधाएं सभी तक पहुंचाने के लिए आज हर राज्य तक एम्स पहुंचाने के लिए काम हो रहा है। 6 एम्स से आगे बढ़कर 22 एम्स का सशक्त नेटवर्क बनाने की तरफ हम तेज़ी से आगे बढ़ रहे हैं।

ये हर भारतवासी के लिए गर्व की बात है कि कोरोना वैक्सीन की 93 करोड़ डोज लगाई जा चुकी है। बहुत जल्द हम 100 करोड़ के आंकड़े को पार कर जाएंगे। भारत ने Cowin प्लेटफॉर्म का निर्माण करके पूरी दुनिया को राह दिखाई है कि इतने बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन किया कैसे जाता है।

आज सरकार इस बात का इंतज़ार नहीं करती कि नागरिक उसके पास अपनी समस्याएं लेकर आएंगे तब कोई कदम उठाएंगे। सरकारी माइंडसेट और सिस्टम से इस भ्रांति को हम बाहर निकाल रहे हैं। अब सरकार नागरिक के पास जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *