शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने ईवीएम पर उठाए सवाल कहा हो सकती है ईवीएम की हेरा-फेरी

कनखल स्थित शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद आश्रम में शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में कहा है कि कांग्रेस की हार और भाजपा की जीत की एक बड़ी वजह ईवीएम की हेरा-फेरी भी हो सकती है। साथ ही ममता बनर्जी के राम के विरोध को लेकर उन्‍होंने कहा कि यह राजनीतिक दृष्टिकोण से कर रही हैं, उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए।कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कि ब्रिटिश नागरिकता को लेकर उठे सवालों पर उन्होंने कहा राहुल गांधी हिंदू हैं और पूर्ण रूप से भारतीय नागरिक हैं।

ममता बनर्जी के राम के विरोध को लेकर उनका कहना है कि यह राजनीतिक दृष्टिकोण से कर रही हैं, उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए। साथ ही उन्होंने इसे राम का विरोध बताने की जगह भाजपा का विरोध बताया। वहीं, शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने साईं बाबा के बढ़ते प्रभाव को एक सुनियोजित साजिश बताते हुए कहा कि यह कुछ लोगों द्वारा हिंदू धर्म को नष्ट करने के इरादे से किया जा रहा है। यही वजह है कि सभी जगहों पर साइको खड़ा करने की कोशिश हो रही है।कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कि ब्रिटिश नागरिकता को लेकर उठे सवालों पर उन्होंने कहा राहुल गांधी हिंदू परिवार में जन्मे हैं हिंदू धर्म को मानते हैं, इसलिए वह हिंदू हैं और पूर्ण रूप से भारतीय नागरिक हैं । इस पर सवाल उठाना या सवाल करना मूर्खता है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार भारत का कानून भी इस बात को प्रमाणित करता है यही वजह है कि उन्हें चुनाव लड़ने की अनुमति प्रदान की गई थी।शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहां है कि राम मंदिर निर्माण के मुद्दे पर केंद्र सरकार देश की जनता को धोखा दे रही है। उन्होंने कहा एक तरफ सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा देकर श्री राम जन्मभूमि मंदिर जन्मस्थान के आसपास की अधिकृत 67 एकड़ जमीन को उसके वास्तविक स्वामियों को लौटाने की बात कही है, साथ ही उन्होंने अविवादित जगह पर मंदिर निर्माण का संकल्प लिया है।

इससे स्पष्ट है कि केंद्र सरकार श्री राम जन्मभूमि मंदिर का निर्माण जन्म स्थान के जगह करने की बजाय दूसरे स्थान पर करने का मन बनाए हुए हैं। उन्होंने मोदी सरकार के पहले कार्यकाल को कार्यविहीन बताते हुए कहा कि मोदी को चाहिए कि वह अपने इस कार्यकाल में कि गए वादों को पूरा करें। शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती जी ने कहा की केंद्र सरकार गोवंश की रक्षा के अपने वादे को पूरा नहीं कर सकी है। यहां तक कि वह राजस्व बढ़ाने के लिए गौ मांस के निर्यात को बढ़ावा देने में लगी हुई है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *