सोशल मीडिया रिपोर्टिंग से लोगो ने इतना दान दिया की पास बुक के पन्ने भी कम पड़ गए

महान, दानी, ईमानदार, कर्तव्यनिष्ठ, दिलेर 240 लोगों ने गरीब बेटी की शादी के लिए 2 लाख , 12 हज़ार,4 सौ 84 रुपये दिए …

उत्तराखण्ड ग्रामीण बैंक शाखा पीपलमंडी, चिन्यालीसौड़ , उत्तरकाशी में गरीब बेटी के खाते में 15 अप्रैल 2009 तक 331 रुपए थे।16 तारीख को बबीता के पिता श्री जोति प्रसाद कुड़ियाल, और माता जी शादी के सामान के लिए चिन्याली सौड़ जा रहे थे, लेकिन क़ुदरत की रास्ते में मार पड़ गई। बबीता की डोली उठने से पहले उनकी अर्थी उठ गईं थीं।

16 तारीख को 4 बजे इस घटना की मार्मिक खबर मेरे द्वारा लिखी गई थी, —- कि गरीब बेटी बबीता की शादी क्या सरकार करायेगी ? इसके बाद समाज के जागरूक लोगों ने बेटी का बैंक खाता मांगा था। गांव किसी विस्वसनीय आदमी को भेजा। 17 को उन्होंने खाता भेजा मेरे पास, आते ही मैंने ऑन लाइन कर दिया।

आज गुरुजी बहुगुणा जी जिनके प्राइमरीस्कूल में बबीता की भोजन थीं और उनके छोटे भाई वहां पढ़ते हैं को बेटी का बैंक पास बुक के साथ बैंक में भेजे। गुरुजी ने कहा बैंक वाले कह रहे हैं कि, पास बुक में इंट्री इतनी है कि दूसरी पास बुक जारी करनी पड़ेगी। गुरुजी ने कहा , बैंक वालो ने कहा कुछ घन्टे बाद आना, तब दे देंगे। मैंने सोचा टाल रहे हैं , मैनेजर को फोन किया कि आपने कहा था कि पास बुक बेजो , फिर आप दे नहीं रहे इंट्री कर। उन्होंने कहा नई दिल्ली से सीए की ऑडिट टीम आई है। 4 बजे बाद भेज दे। फिर भी मैनेजर ने चालाकी कर दी, कि पैसे भेजने वाले महान लोगो के खाता दिया, नाम नहीं। जबकि नाम भी होने चाहिए। पहले उन्होंने दिए थे। आज नहीं।

लेकिन मेरा प्रयास होगा नाम भी हो, जिन्होंने बेटी को दान दिया। क्योंकि नाम से आया था। मेरे कुछ लोगों ने कहा कि गुसाईं जी आप कैश ले लो, आप दे देना। मैंने साफ इंकार कर खाता दिया। पैसा खराब होता है। अपील, या लेख अच्छे होते हैं। जिसमें उन्होंने सीधे खाते में डाले।

शादी तो 28 को है। अभी 27 भी बीच मे है। दर्जनों लोग मुझ से बैंक का ifsc इंटर नेशनल फाइनेंशियल स्टैंडर्ड कोड मांगते है। तभी अन्य बैंक में पैसा जाता है। अंदाज़ है। ढाई लाख पार होगा। इसमें उद्योग पति श्री सत्ये सिंह नेंगी का एक लाख का सामान शामिल नहीं है। नेगी ने घोषणा की है, जब आएगा। फक्र से लिखा जायेगा।

समाज में ऐसे बच्चे उजागर किये जायेंगे। भविष्य में भी। क्योंकि सही और जरूरतमंद लोगों के लिये दिल आज भी 24 घन्टे खुले हैं। नोट – पास बुक की जो इंट्री आज तक हुई हैउसका विवरण नीचे दिया गया है।

शीशपाल गुसाईं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *