क्या गरीब बबली की शादी कराएगी सरकार ? (ऋषिकेश धरासू मार्ग पर टाटा सूमो हादसा )

बबली की बारात आनी है 28 अप्रैल को आज टाटा सूमो हादसे में बबली के माँ,पिता की मौत विधाता की मार गरीबों पर ही पड़ती है। नगुण हादसे से गरीबों के आंसुओं के सैलाब नहीं रुक रहे। टिहरी जिले की कंडी सौड़ तहसील में नगुण पट्टी में टाटा सूमो गिरने से , 3 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। पूरी पट्टी में शोक की लहर है। बबली की बारात, 28 तारीख को आनी थीं।

शादी के सामान के लिए पिता जोति प्रसाद जगूड़ी (66), माँ श्रीमती तारा देवी गांव के ही टाटा सूमो ड्राइवर महेश जगूड़ी के साथ चिन्यालीसौड़ जा रहे थे। नगुण बाईपास से एक किलोमीटर दूर सूमो नगुण गाड़ में गिर गई। जिससे तीनों की मौके पर मौत हो गई।

परिवार बहुत गरीब है। गांव वालों के सहयोग, से बबली की शादी हो रही थीं। बबली की बहन, विकलांग है। दो छोटे भाई दीपक 6 में प्रदीप 3 में पढ़ते हैं। पूरे थौलधार, चिन्यालीसौड़ ब्लॉक में शोक छाया हुआ है। हर किसी की जुबान पर बबली की शादी की चर्चा है।

कंडी सौड़ अस्पताल में ग्रमीणों के आंसुओं का सैलाब है। ग्रमीणों की मांग थीं कि पोस्टमार्टम कंडी सौड़ में किया जाय।
शायद ऐसा ही हो रहा है। लेकिन बारात,चम्बा ( कांडा खोली ) से बबली के गांव काथड आएगी। इस पर चर्चा हो रही है। प्रधानमंत्री जी या मुख्यमंत्री जी से कोई ऐसी स्कीम हो, जिससे ग़रीब की बेटी की शादी हो जाये। और छोटे छोटे बच्चों किसी स्कीम में आसरा मिल जाये।
वे निरंतर स्कूल जाये। गरीबों के लिए आपातकाल में शासन प्रशासन की ऐसी व्यवस्था से सरकार को ही फायदा होगा। उदासी, मायूसी, आंसू, दुखों का सैलाब छटना चाहिए।

टेलीविजन में आजकल बड़ी बड़ी दहाड़े सुनाई पड़ रही है कि, ये कर देंगे, वो कर देंगे। काश एक दहाड़ मदद की निर्धन, गरीब बबली , उसकी विकलांग बहन, छोटे भाईयो के आती?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *