अलीगढ में ढाई साल की बच्ची की हत्या के आरोप में गिरफ्तार हुआ आरोपी

अलीगढ़ में 2.5 साल की बच्ची की हत्या के आरोपियों में से एक को अपनी ही 7 साल की बेटी के साथ बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया गया था और वह जमानत पर बाहर था। पुलिस ने ‘इंडियन एक्सप्रेस’ को ये बताया। पुलिस के अनुसार, आरोपी के खिलाफ कुल चार पिछले मामले लंबित थे। आरोपी पर 376 (बलात्कार), 354 (एक महिला का अपमान करने के इरादे से हमला) और 363 (अपहरण) सहित विभिन्न आईपीसी की धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए।

2014 में एक रिश्तेदार की शिकायत के आधार पर उस पर उसकी बेटी के साथ बलात्कार करने का आरोप था। एसएचओ ने कहा कि कुछ महीने बाद उसे जमानत दे दी गई।

दरअसल, एक बच्ची का क्षत-विक्षत शव 2 जून को एक कूड़ेदान में मिला और आशंका है कि पैसों को लेकर चल रहे विवाद के कारण यह बर्बर हत्या हुई। लड़की 31 मई से लापता थी। इस मामले में अब तक 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

2.5 साल की मृतक की मां ने कहा, ‘मैं मोदी सरकार और योगी सरकार से अनुरोध करती हूं कि आरोपियों को कड़ी सजा दी जाए। हम उसके लिए मौत की सजा चाहते हैं। अन्यथा अगर वह 7 साल के बाद बाहर आते हैं, तो उसका उत्साह और भी बढ़ा होगा। कार्रवाई ना होना उन्हें प्रोत्साहित करेगी। एक आरोपी ने अपनी ही 4 साल की बेटी के साथ बलात्कार किया था, उसकी पत्नी ने उस दिन अपनी बेटी को अपने माता-पिता के घर छोड़ दिया था।’

वहीं अलीगढ़ बार एसोसिएशन के महासचिव, अनूप कौशिक ने कहा, ‘हम ढाई साल की बच्ची के परिवार के साथ खड़े हैं, जिसकी हत्या कर दी गई। आरोपी के लिए कोई वकील अदालत में पेश नहीं होगा। बाहर से वकील को मुकदमा लड़ने की अनुमति नहीं दी जाएगी। हम बच्ची के लिए लड़ेंगे’

एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) आनंद कुमार ने कहा, ‘पुलिस अधीक्षक ग्रामीण क्षेत्र (SPRA) के तहत एसआईटी गठित की गई है। फोरेंसिक साइंस टीम, स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) और विशेषज्ञों की एक टीम भी फास्ट ट्रैक आधार पर जांच करने के लिए एसआईटी में होगी। मामले में POCSO एक्ट भी रहेगा।

वहीं पीड़िता के पिता ने कहा, ‘हम सरकार से मांग करते हैं कि आरोपी को फांसी की सजा दी जाए।’

इस मामले में थाना प्रभारी सहित 5 पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी प्रशासन ने कार्रवाई की है। यूपी राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष, विमला बाथम ने कहा, ‘हम मांग करते हैं कि अलीगढ़ में 2.5 साल की बच्ची की हत्या के मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में लिया जाना चाहिए। हम जल्द ही यूपी डीजीपी से मिलेंगे और मुख्यमंत्री से भी मिलने के लिए समय मांगा है।’ वहीं राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने एसएसपी अलीगढ़ से तथ्य जांच रिपोर्ट की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *