उत्तराखंडः सियासी दलों की पंचायत चुनाव के लिए जुटने लगी सेना

उत्तराखंड में पंचायत चुनाव का औपचारिक एलान नहीं हुआ है । पंचायत चुनाव के लिए सरकार और राज्य निर्वाचन आयोग की तैयारियों के बीच सियासी दलों की सेना जुटने लगी है। रविवार को छुट्टी के दिन कांग्रेस और भाजपा दोनों पार्टियों में खासी चहल पहल रही। कांग्रेस और भाजपा कार्यालयों में राजनीति के दिग्गज जुटे, पंचायत चुनाव पर चर्चा हुई और जीत के दावे किए गए। इधर सब कुछ सही रहा, तो सरकार 30 नवंबर 19 से पहले त्रिस्तरीय पंचायत के चुनाव पूरा कराने के मूड में है। उस हिसाब से देखें, तो पंचायत चुनाव में अब वक्त नहीं बचा है।

भाजपा पंचायत चुनाव समिति ने रणनीति पर की बात

रविवार को उत्तराखंड में पंचायत चुनाव को लेकर भाजपा की चुनाव समिति और प्रमुख पदाधिकारियों की बैठक हुई। जिसमें प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा कि पंचायत चुनाव को पार्टी पूरी गंभीरता से लेकर लड़ने जा रही है। भाजपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए अजय भट्ट ने कहा कि प्रदेश के विकास में पंचायत व्यवस्था की महत्वपूर्ण भूमिका होती है । इसके दृष्टिगत भाजपा इस चुनाव को पूरी गंभीरता से लेती है। हमें जन सेवा समर्पित प्रत्याशियों को इस चुनाव को लेकर आगे बढ़ाना है, वहीं चुनाव में विजय हेतु कार्य योजना भी तैयार करनी है।

पंचायत चुनाव को लेकर पार्टी ने पांच सदस्यीय समिति बनाई है, जिसे खास जिम्मेदारी दी गई है। इस समिति में प्रदेश के सहकारिता व उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, पूर्व अध्यक्ष बिशन सिंह चुफाल, प्रदेश उपाध्यक्ष पुष्कर सिंह धामी, पूर्व महामंत्री नरेश बंसल,  नीरू देवी शामिल हैं। बैठक में समिति सदस्यों के अलावा प्रदेश सरकार में शिक्षा व पंचायतराज मंत्री अरविंद पांडेय, प्रदेश उपाध्यक्ष ज्योति ग़ैरोला, प्रदेश महामंत्री खजान दास, राजेंद्र भंडारी, अनिल गोयल व प्रदेश कार्यालय सचिव पुष्कर सिंह काला भी मौजूद रहे।

कांग्रेस महिलाओं को भी हर जिले में प्रभारी बनाएगी
हर जिले में कांग्रेस ने महिलाओं को भी प्रभारी बनाने का निर्णय लिया है। कांग्रेस ने दो दिन पहले ही हर जिले में प्रभारी नियुक्त किए हैं। महिला प्रभारी का निर्णय पंचायतों में महिलाओं के लिए 50 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था को देखते हुए किया गया है। महिला कांग्रेस से इस संबंध में प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने नाम मांगे हैं। दो चार दिन के भीतर महिला जिला प्रभारी भी नियुक्त कर दी जाएंगी। प्रदेश अध्यक्ष अनुग्रह नारायण सिंह, प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह और नेता प्रतिपक्ष डॉ.इंदिरा हृदयेश ने रविवार को फ्रंटल संगठनों के साथ कांग्रेस भवन में आयोजित बैठक के दौरान यह निर्णय लिया। कांग्रेस ने दावा किया है कि पंचायत चुनाव में पार्टी शानदार प्रदर्शन करेगी। पौने तीन साल के त्रिवेंद्र सरकार के कार्यकाल की कमियों को पंचायत चुनाव में उजागर किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *